महफूज़

ज़िन्दगी के झमेलों में,
9 से 5 के खेलों में,
आवाज़ महफूज़ है ख़ामोशी में |
ख़ुशी जहाँ बंद है किश्तों में,
रोज़ बनते बिगड़ते रिश्तों में,
मोहब्बत महफूज़ है तन्हाई में |
करारे नोटों की चमक में,
बड़े नामों की दमक में,
ज़िन्दगी महफूज़ है अंधेरों में |

पुलकित

2 thoughts on “महफूज़

  1. Yeh jaante hue bhi ki woh kitna khoya hai..
    Ummeed ki roshni dhoondhe woh..
    Wahi to insaan hai..wahi toh insaan hai..

    On the pessimistic side..

    phir bhi insaan pareshan hai
    Dara sehma hua..nanhi si jaan hai
    Dhoondhe sahaara vahin andheron main..
    Kahan hai woh mehfooz..woh in relon main??

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *